पुलिस स्मृति दिवस (National Police Day)

12

 भारतीय पुलिस की याद में 21 अक्टूबर को हर वर्ष पुलिस स्मृति दिवस (National Police Day) मनाया जाता है । पुलिस स्मृति दिवस 1959 में शहीद हुए भारतीय पुलिस की याद में मनाई जाती है ।

National Police Day

देश की सुरक्षा में जल, थल और वायु सेना के साथ – साथ देश की पुलिस भी अपना महत्वपूर्ण योगदान होता है । अगर जरूरत पड़ी तो पुलिस देश की सुरक्षा में सरहद पर भी जा सकते हैं यह बात पहले ही साबित हो चुकी है । 21 अक्टूबर को हर वर्ष भारत में पुलिस स्मृति दिवस मनाया जाता है । इस खास दिवस पर उन भारतीय वीर पुलिस जवानों को याद किया जाता है जो देश की सुरक्षा में ड्यूटी के दौरान देश के लिए शहीद हो गए थे । 

कोरोना के इस संकट काल में भी पुलिस कर्मियों ने बिना डरे देश की सेवा के लिए तत्पर रहे । कोरोना संकट काल में देश की सेवा में लगे कई सुरक्षाकर्मी शहीद भी हो गए । 2020 के इस कोरोना संकट में शहीद हुए पुलिस कर्मियों को इस पुलिस स्मृति दिवस पर याद किया गया और उनके कार्य के लिए उन्हें नमन किया गया ।

पुलिस स्मृति दिवस मनाने का कारण

पुलिस स्मृति दिवस, 1959 की एक घटना से संबंधित है जब भारतीय पुलिस कर्मियों को चीन से संटी सीमा के पास सरहद कि सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था तब चीनी सैनिकों द्वारा 10 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे । यह घटना 21 अक्टूबर 1959 की है । तिब्बत और भारत की 2500 मील लंबी सीमा की सुरक्षा के लिए तीसरी बटालियन की एक कंपनी को सुरक्षा के लिए हॉट स्प्रिंग नमक क्षेत्र पर तैनात किया गया था । 20 अक्टूबर के दिन सीमा की पहरा देने के लिए बटालियन 3 टुकड़ी में बंटकर बारी बारी से पहरा देने वाली थी । उस दिन पहली टुकड़ी पेट्रोलिंग के लिए गई और वापस भी आ गई, इसी तरह दूसरी टुकड़ी भी पेट्रोलिंग करके वापस आ गई मगर जब तीसरी टुकड़ी पेट्रोलिंग के लिए गई तो वो वापस नहीं लौटी ।

खोए हुए जवानों को ढूंढने के लिए अगले दिन 21 अक्टूबर को डीसीआईओ करम सिंह के नेतृत्व में एक टीम निकाली । जो तीसरी टुकड़ी वापस नहीं लौटी थी उसमें दो पुलिस कांस्टेबल भी सामिल थे । जब खोए हुए जवानों को ढूंढने के लिए टीम निकाली तभी अचानक से चीनी सैनिकों ने इस टीम पर गोली चलाना चालू कर दिया साथ ही ग्रेनेड से हमला किया गया । भारतीय जवान जब तक कुछ समझ पाते तब तक कई जवान शहीद हो गए, कई घायल हो गए तथा कुछ चीन के द्वारा बंदी बना लिए गए । इनमे से कुछ जवान ऐसे भी थे जो इस अचानक हुए हमले से बच कर निकल गए । चीन के द्वारा किए गए इस अचानक हमले में 10 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे ।

13 नवंबर 1959 को चीनी सैनिकों ने उन 10 शहीद पुलिसकर्मियों की पार्थिव शरीर लौटाई जिनका पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया । इसी दिन के याद में हर वर्ष 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस मनाई जाती है । 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here